जानिये कोन हे Rawana (रावणा) राजपूत ?

 Rawana (रावना) राजपूत  :-

Rawana
प्राचीनतम आर्य संस्कृति के क्षत्रिय वर्ण का मुख्य दायित्व सुरक्षा एवं शासन करना था. सुरक्षा की दृष्टि से शत्रुओं से युद्ध करके अपने राज्य के अस्तित्व को बनाये रखना और अपनी प्रजा की रक्षा करना और शासन की दृष्टि से प्रजा की सेवा करना क्षत्रियों का परम कर्तव्य था.  ये ही क्षत्रिय वर्ण के लोग अनगिनत जातियों में विभक्त (अलग अलग जातियों मे बट गये) हो गए. राजपूत जाति उनमें से एक है. आर्य संस्कृति के चारों वर्ण जब भिन्न भिन्न जातियों में विभाजित होने लगे, तब हिन्दू संस्कृति का जन्म हुआ.

 आज जाति व्यवस्था हिन्दू धर्म के प्रमुख लक्षणों में से एक महत्वपूर्ण लक्षण है. कालांतर में राजपूत जाती में भी अनेक जातियां निकली. उस व्यवस्था में रावणा राजपूत नाम की जाति राजपूत जाति में से निकलने वाली अंतिम जाती है, जिसकी पहचान के पूर्वनाम दरोगा, हजुरी वज़ीर आदि पदसूचक नाम है. राजपूत जाति से अलग पहचाने जाने वाली इस जाति प्रारंभिक काल मुग़ल शासन है. भारत में अंग्रेजी शासन के उस काल में जबकि अनेक समाज सुधार आंदोलन चल रहे थे और देश में स्वतंत्रता के लिए कांग्रेस का आंदोलन ज़ोर पकड़ने लगा था, तब बीसवीं शताब्दी के प्रथम दशक में आर्य समाज की विचारधारा और कार्यकलापों से ओतप्रोत इस जाति के बुद्धिजीवी वर्ग में अरबी और फ़ारसी भाषा के शब्दों से निज जाति की पहचान कराने वाले उपरोक्त जातिसूचक नामों को नकार दिया था और विशुद्ध हिंदी भाषा रावणा राजपूत नाम से इस जाति पहचान कराने का अभियान शुरू कर दिया था.


रावणा शब्द का अर्थ राव+वर्ण से है अर्थात योद्धा जाति यानी की राजाओं व सामंतों के शासन की सुरक्षा करने वाली एकमात्र जाति जिसे रावणा राजपूत नाम से जाना जाए. इस नाम की शुरुआत तत्कालीन मारवाड़ की रियासत के रीजेंट सर प्रताप सिंह राय बहादुर के संरक्षण में जोधपुर नगर के पुरबियों के बॉस में सन 1912 में हुई है. जिस समय इस जाति के अनेकानेक लोग मारवाड़ रियासत के रीजेंट के शासन और प्रशासन में अपनी महत्वपूर्ण भागीदारी निभा रहे थे.

स्मरण रहे की सर प्रताप सिंह राय बहादुर आर्य समाज के संस्थापक स्वामी दयानंद सरस्वती से बहुत प्रभावित थे और आर्य समाज जोधपुर के प्रथम संस्थापक प्रधान थे. आज यह नवसृजित नाम मारवाड़ की सीमाओं को लांग कर राजस्थान के अनेक ज़िलों में प्रचलित है जिसकी व्यापकता की दृष्टि से काका कालेलकर आयोग और मंडल आयोग ने भी पुष्टि की है. और केंद्र तथा राज्य सरकार ने भी अन्य पिछड़ा वर्ग की सूचि में सम्मिलित किया है. इस नाम से इस जाति की नयी पुरानी पहचान छुपी हुई है. सच माने में यह जाति शैक्षणिक, सांस्कृतिक, व्यावसायिक, आर्थिक और राजनितिक दृष्टि से अत्यंत पिछड़ी हुई जाति है.

विशेष टिप्पणी :- 
रावणा राजपूत कहे जाने वाली इस जाती व अन्य पिछड़ी jaatiyon को दास प्रथा से मुक्त कराने में मारवाड़ के महाराजाधिराज श्री सर जसवंत सिंह जी साहब ने विक्रम संवत 1940 (सन 1887 ई.) के क़रीब मारवाड़ का क़ानून बनवाकर 'वशी प्रथा' व 'दास प्रथा' दोनों का अंत किया जिसके बाद सामंतवादी क्षत्रियों ने वापस समय पाकर इन प्रथाओं को दुसरे रूप में सन 1916 ई. में हरा-भरा करने का प्रयास किया.  जिसे वापस हमारे श्री सर उम्मैद सिंह जी साहब बहादुर ने सन 1921 ई. में नोटिफिकेशन नं. 11 9 3 9 तारीख 21-4-1926 के द्धारा समूल रद्द कर अपनी दीं प्रजा को सामंतवादी जमीदारों से मुक्त किया.

वि. स. 1943 ई. और सन. 1887 ई. पूर्व फौज में पुरबिये, सिख, जाट और देसी मुसलमान आदि ही भर्ती किये जाते थे. राजपूतों की भर्ती किंचित मात्र ही थी. लेकिन सं. 1889 में मारवाड़ नरेश ने राजपूतों की माली हालत को समझते हुए एक फरमान निकला की आइंदा सरकारी फौज में देसी राजपूत ही भर्ती किये जाएँ. सं. 1818 ई. से इस हुक्म की तामिल शुरू हुई। सरदार रिसाला और इंफेक्ट्री की नवीन भर्ती शुरू हुई जिसमे राजपूत व भूमिहीन राजपूत दोनों को योग्यतानुसार सामान पदों पर भर्ती किया गया.

Post a Comment

0 Comments